Connect with us

खबर सक्ती ...

राजनीति के संत महामानव पं. दीनदयाल उपाध्याय ..

Published

on

राजनीति के संत महामानव पं. दीनदयाल उपाध्याय .. Console Corptech

11 फरवरी पुण्य तिथि पर विशेष लेख ..

.

सक्ती, सफलता की पूजा हो सकती है पर श्रद्धा आदर्शों के प्रति ही उपजती है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजनीति के क्षेत्र में एक ऐसा नाम है जिसे सुनते ही श्रद्धा आकस्मिक रूप से उमड़ पड़ती है। आज जबकि अधिकांश राजनीतिज्ञ राजनीति को स्वार्थ साधन का आधार बना चुके हैं दीनदयाल सदृश्य महान व्यक्तियों की आवश्यकता और भी अधिक महसूस होने लगी है जिन्होंने राजनीति को हमेशा देश और समाज की सेवा का माध्यम ही माना है। उनका कहना था की राजनीति ऐसी होनी चाहिए कि जिससे सामाजिक क्षेत्र में नवनिर्माण का संकल्प गूंज उठे। महत्वाकांक्षा से प्रेरित हो धन बल का सहारा ले राजनीति में छा जाने की इच्छा रखने वाले बहुत मिलेंगे परंतु अभावों में पलकर अपने आचरण एवं व्यक्तित्व से राजनीति में अपना स्थान बनाना बहुत कम लोगों को आता है आज आमतौर पर उसे ही सफल राजनीतिज्ञ माना जाता है जो येन केन प्रकारेण सत्ता के उच्च सोपान पर विराजमान हो सके चाहे इसके लिए आदर्शों की कितनी ही अवहेलना करनी पड़े। राजनीतिज्ञों के बारे में किसी ने कहा है कि “दुनिया के सभी राजनीतिज्ञ एक समान होते हैं वे ऐसी जगह भी पुल बनाने का वादा कर सकते हैं जहां कोई नदी नहीं बहती” यदि उक्त कथन को सत्य माना जाए तो पंडित दीनदयाल उपाध्याय को राजनीतिज्ञ कहना अनुचित ही होगा क्योंकि उन्होंने हमेशा कथनी और करनी की एकरूपता पर ही जोर डाला है। किसी ने उन्हें राजनीति में आधुनिक ऋषि कहा है तो किसी ने अजातशत्रु। दीनदयाल जी एक महान विचारक, श्रेष्ठ लेखक, कुशल राजनीतिज्ञ और इन सबसे बढ़कर एक श्रेष्ठ मानव थे। उनका जीवन प्रखर राष्ट्रीयता से ओतप्रोत था राष्ट्रीय जीवन के विभिन्न पहलुओं पर गहन और व्यापक चिंतन करके उन्होंने समय पर जो विचार व्यक्त किए वे समयानुकूल तो थे ही साथ ही सच्चाई से उद्दीप्त थे। दीनदयाल जी का कहना था कि सृष्टि संघर्ष पर नहीं सहयोग और समन्वय पर टिकी है, पुरुष और प्रकृति के संघर्ष से नहीं अपितु उनके परस्पराधीनता से सृष्टि बनती और चलती है अतः वर्ग विरोध और संघर्ष के स्थान पर परस्परावलंबन और सहयोग के आधार पर समाज की दिशा निर्धारित होनी चाहिए। दीनदयाल जी ने भारत की समस्याओं को उनके सही परिप्रेक्ष्य में देखा और भारत की समृद्ध संस्कृति और उसकी आत्मा के अनुसार उसका हल खोजने की कोशिश की। कश्मीर के बारे में उनकी स्पष्ट राय थी कि पाकिस्तान के साथ यदि कश्मीर का कोई प्रश्न शेष है तो वह उसकी एक तिहाई क्षेत्र की मुक्ति का है।
वृत्त पत्र में नाम छपेगा, पहनूंगा स्वागत श्रृंगार।
छोड़ चलो यह क्षुद्र भावना, हिंदू राष्ट्र के तारणहार।।
कविता की इन पंक्तियों के अनुरूप पद प्रतिष्ठा और आत्म प्रचार से दूर रहने वाले पंडित दीनदयाल ने आपात धर्म के रूप में भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष पद का भार ग्रहण किया। उनके गतिशील और ओजस्वी नेतृत्व से जनसंघ में एक अद्भुत प्रवाह और शक्ति आ गई जनसंघ के कार्यकर्ताओं पर उन्होंने कभी इस निराशावादी सोच को प्रभावित होने नहीं दिया कि राजनीति गंदी होती है या क्या रखा है राजनीति में। जनसंघ ने उनके कार्यकाल में बुलंदियों को छूना प्रारंभ किया। संस्था प्रमुख होने के बावजूद दीनदयाल जी ने हमेशा राष्ट्र को प्रमुख माना संस्था को नहीं। जनसंघ के कालीकट अधिवेशन में उन्होंने कहा कि हमने किसी संप्रदाय या वर्ग विशेष की सेवा का नहीं बल्कि संपूर्ण राष्ट्र की सेवा का व्रत लिया है। सभी देशवासी हमारे बांधव हैं जब तक हम इन सभी बंधुओ को भारत माता के सपूत होने का सच्चा गौरव प्रदान नहीं करेंगे हम चुप नहीं बैठेंगे। हम भारत माता को सही अर्थों में सुजलां सुफलां बना कर रहेंगे। लोकतंत्र को दीनदयाल जी ने लोककर्तव्य के निर्वाह का माध्यम माना है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय का सही मूल्यांकन करने के लिए राजनीति के दायरे से बाहर आना होगा वह केवल राजनीतिक पुरुष नहीं थे उनका चिंतन समग्र था उन्होंने समय-समय पर जो विचार व्यक्त किए हैं वह दीर्घ काल तक संपूर्ण मानवता का पथ आलोकित करते रहेंगे। उन्होंने देश को एकात्म मानववाद का दर्शन, चरैवेति का मंत्र और अंत्योदय की प्रेरणा दी। राजनीति के इस अजातशत्रु की शत्रुता थी भारत विरोधी विचारधाराओं से, भारत पर आक्रमण करने वाली शक्तियों से, भारत को विभाजित करने वाली नीतियों से, राष्ट्रीय स्वाभिमान को कुंठित करने वाले चिंतन प्रणाली से। यह शक्तियां ही उनकी शत्रु बन गईं और यह शत्रुता उनकी हत्या का कारण। 11 फरवरी 1968 को दीनदयाल जी ने भौतिक रूप से इस संसार को छोड़ दिया परंतु अपने विचारों के रूप में वे आज भी हमारे बीच विद्यमान हैं। जन्म से नहीं कर्म से महान, मानवता के सच्चे मित्र और पुजारी, महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय को मेरा शत-शत नमन।

राजनीति के संत महामानव पं. दीनदयाल उपाध्याय .. Console Corptech


रमेश सिंघानिया ..

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Categories

उप संपादक

आशीष शर्मा

उगेंद्र अग्रवाल ( पप्पु )

संपर्क

Address : Bazar Road, SAKTI,
Dist - Sakti, Chhattisgarh, Pin - 495689,

Mob : 9329606219
Email : admin@atulsakti.com

Developed By

Latest

"छत्तीसगढ़ राज्य प्राचार्य पदोन्नति संघर्ष मोर्चा" ने मुख्यमंत्री एवं स्कूल शिक्षा मंत्री से प्रदेश के 3266 से अधिक शासकीय हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों में वर्षो से रिक्त पड़े प्राचार्य के पदों पर शीघ्र पदोन्नति आदेश जारी करने की मांग की" .. Console Corptech "छत्तीसगढ़ राज्य प्राचार्य पदोन्नति संघर्ष मोर्चा" ने मुख्यमंत्री एवं स्कूल शिक्षा मंत्री से प्रदेश के 3266 से अधिक शासकीय हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों में वर्षो से रिक्त पड़े प्राचार्य के पदों पर शीघ्र पदोन्नति आदेश जारी करने की मांग की" .. Console Corptech
ख़बर रायपुर2 days ago

“छत्तीसगढ़ राज्य प्राचार्य पदोन्नति संघर्ष मोर्चा” ने मुख्यमंत्री एवं स्कूल शिक्षा मंत्री से प्रदेश के 3266 से अधिक शासकीय हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों में वर्षो से रिक्त पड़े प्राचार्य के पदों पर शीघ्र पदोन्नति आदेश जारी करने की मांग की” ..

3266 शासकीय हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों में पदोन्नति से पूर्णकालिक प्राचार्य की पदस्थापना से प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था...

सजलकार रमेश सिंघानिया के दो नवीनतम सजल- संग्रह "दोष नहीं कुछ दर्पण का" और "आदमी पत्थर हुआ" का लोकार्पण समारोह और कवि गोष्ठी का आयोजन हुआ संपन्न .. Console Corptech सजलकार रमेश सिंघानिया के दो नवीनतम सजल- संग्रह "दोष नहीं कुछ दर्पण का" और "आदमी पत्थर हुआ" का लोकार्पण समारोह और कवि गोष्ठी का आयोजन हुआ संपन्न .. Console Corptech
खबर बाराद्वार ..2 days ago

सजलकार रमेश सिंघानिया के दो नवीनतम सजल- संग्रह “दोष नहीं कुछ दर्पण का” और “आदमी पत्थर हुआ” का लोकार्पण समारोह और कवि गोष्ठी का आयोजन हुआ संपन्न ..

बाराद्वार, राष्ट्रीय कवि संगम जिला सक्ती एवं सांस्कृतिक विकास मंच सक्ती की जुगलबंदी में 11 जून मंगलवार को अग्रसेन भवन...

नाबालिक के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी एवं सहयोग करने वाले आरोपी के दीदी-जीजा को 25-25 वर्ष की सश्रम कारावास एवं अर्थदंड की सजा .. Console Corptech नाबालिक के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी एवं सहयोग करने वाले आरोपी के दीदी-जीजा को 25-25 वर्ष की सश्रम कारावास एवं अर्थदंड की सजा .. Console Corptech
खबर सक्ती ...2 days ago

नाबालिक के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी एवं सहयोग करने वाले आरोपी के दीदी-जीजा को 25-25 वर्ष की सश्रम कारावास एवं अर्थदंड की सजा ..

फास्ट ट्रैक कोर्ट के विशेष न्यायाधीश प्रशांत कुमार शिवहरे का निर्णय , विशेष लोक अभियोजक राकेश महंत ने मामले की...

बाबा गुरू घासीदास ने दिखाया शांति और सद्भाव का मार्ग: मुख्यमंत्री साय .. Console Corptech बाबा गुरू घासीदास ने दिखाया शांति और सद्भाव का मार्ग: मुख्यमंत्री साय .. Console Corptech
ख़बर रायपुर4 days ago

बाबा गुरू घासीदास ने दिखाया शांति और सद्भाव का मार्ग: मुख्यमंत्री साय ..

सतनामी समाज के प्रमुखों ने कहा शांति और सौहार्द्रपूर्ण वातावरण के लिए मिलकर करेंगे कार्य , बलौदाबाजार जिले की घटना...

विजन डॉक्यूमेंट ‘अमृतकालः छत्तीसगढ़ विजन@2047’ के लिए मंत्रियों-विधायकों से मांगे गए सुझाव .. Console Corptech विजन डॉक्यूमेंट ‘अमृतकालः छत्तीसगढ़ विजन@2047’ के लिए मंत्रियों-विधायकों से मांगे गए सुझाव .. Console Corptech
ख़बर रायपुर4 days ago

विजन डॉक्यूमेंट ‘अमृतकालः छत्तीसगढ़ विजन@2047’ के लिए मंत्रियों-विधायकों से मांगे गए सुझाव ..

योजना मंत्री ओपी चौधरी ने लिखा पत्र , सुझाव 30 जून तक लिखित में या फिर वेब पोर्टल मोर सपना-मोर...

मदिरा दुकान परिसर में अहाता के लिए चयन कार्यवाही कल 12 जून को .. Console Corptech मदिरा दुकान परिसर में अहाता के लिए चयन कार्यवाही कल 12 जून को .. Console Corptech
खबर रायगढ़4 days ago

मदिरा दुकान परिसर में अहाता के लिए चयन कार्यवाही कल 12 जून को ..

रायगढ़, शासन के निर्देशानुसार रायगढ़ जिले के देशी, विदेशी, कम्पोजिट मदिरा दुकान के अनुज्ञप्त परिसर से संलग्न अहाता के अनुज्ञप्तिधारियों...

महतारी वंदन योजना का मिल रहा लाभ, अब किसी से मांगने नहीं पड़ते पैसे : उर्मिला कुमारी .. Console Corptech महतारी वंदन योजना का मिल रहा लाभ, अब किसी से मांगने नहीं पड़ते पैसे : उर्मिला कुमारी .. Console Corptech
खबर कोरबा4 days ago

महतारी वंदन योजना का मिल रहा लाभ, अब किसी से मांगने नहीं पड़ते पैसे : उर्मिला कुमारी ..

महतारी वंदन योजना से महिलाएं बन रही हैं आत्मनिर्भर , घरेलू आवश्यकताओं की पूर्ति, बच्चों की पढ़ाई के साथ ही...

कलेक्टर-एसपी ने संयुक्त बैठक लेकर कानून-व्यवस्था की समीक्षा की .. Console Corptech कलेक्टर-एसपी ने संयुक्त बैठक लेकर कानून-व्यवस्था की समीक्षा की .. Console Corptech
खबर बिलासपुर4 days ago

कलेक्टर-एसपी ने संयुक्त बैठक लेकर कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ..

बिलासपुर, कलेक्टर अवनीश शरण एवं पुलिस अधीक्षक रजनेश सिंह ने संयुक्त रूप से एसडीएम एवं पुलिस अधिकारियों की बैठक लेकर...

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था नंदेलीभाठा सक्ति मे जमाकर्ता शिक्षा व जागरुकता का एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित .. Console Corptech औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था नंदेलीभाठा सक्ति मे जमाकर्ता शिक्षा व जागरुकता का एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित .. Console Corptech
खबर सक्ती ...4 days ago

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था नंदेलीभाठा सक्ति मे जमाकर्ता शिक्षा व जागरुकता का एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित ..

सक्ती, भारतीय रिजर्व बैंक की जमाकर्ता शिक्षा व जागरुकता कार्यक्रम के अंतर्गत एक दिवसीय कार्यशाला का औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था नंदेलीभाठा...

कलेक्टर ने ली साप्ताहिक समय सीमा की बैठक .. Console Corptech कलेक्टर ने ली साप्ताहिक समय सीमा की बैठक .. Console Corptech
खबर सक्ती ...4 days ago

कलेक्टर ने ली साप्ताहिक समय सीमा की बैठक ..

विभिन्न विभागों के कार्यों की विस्तार से की गई समीक्षा , 18 जून को शाला प्रवेशोत्सव के लिए आवश्यक तैयारियां...

Trending